मेल चिम्प क्या है

Review Technology

आपने जरूर कहीं ना कहीं “मेल चिम्प” के बारे मे सुना या पढ़ा होगा, तभी तो आप यहाँ तक पहुँच पाएँ हैं , लेकिन मै आपको बता दूँ की इसको पढ़ने के बाद फिर से आपको दुबारा से मेल चिम्प के बारे मे जानने की जरूरत नहीं पड़ेगी , लेकिन आप पूरा पढ़ेंगे तभी अच्छे से समझ पाएंगे, तो कृपया पूरा पढ़िये ।

तो सबसे पहले हम ये जान लेते हैं की इसका काम क्या है फिर जानेंगे ये है क्या, मतलब की वैबसाइट ये सॉफ्टवेर या फिर कुछ और ।

तो अगर आप डिजिटल मार्केटिंग के बारे मे थोड़ा भी जानते हैं तो ईमेल मार्केटिंग का नाम भी आप जानते ही होंगे, और कुछ लोग होंगे जो इस ईमेल मार्केटिंग के बारे मे भी अच्छे से जानते होंगे ।

इसकी जरूरत हमे इसलिए पड़ी क्यूंकी एक ही मैसेज को लाखो लोगो के पास एक साथ भेजना पॉसिबल नहीं है, और अगर हम एक – एक करके भेंजे तो भेजते ही रह जाएंगे और वैसे भी हम एक ईमेल आईडी से सिर्फ 100 मैसेज ही भेज पाएंगे 1 दिन मे ऐसा नियम है ।

तो मेल चिम्प का इस्तेमाल ईमेल मार्केटिंगे के लिए ही किया जाता है , लेकिन बहुत से लोग कहते हैं की ईमेल मार्केटिंग करने के लिए मेल चिम्प सही नहीं है ऐसा लोग क्यूँ बोलते हैं उसको हम बाद मे समझेंगे,, क्यूंकी हम अभी मेल चिम्प की जरूरत को ही समझ रहें हैं ।

तो आपने देखा होगा की आपके ईमेल ओपेन करते ही आपके पास किसी कम्पनी या किसी संस्था या फिर किसी सॉफ्टवेर इत्यादि की मैसेज आए होते हैं।

तो आप सोचते होंगे की ये ऐसे ही  ये “एड” रहते हैं , लेकिन मै बता दूँ की आपकी ईमेल आईडी उनके पास है तभी वो मैसेज आपके पास आया है ।

आप थोड़ा इस तरह से समझिए जैसे की मान लीजिये आपके दो ईमेल आईडी हैं, लेकिन दोनों पर एक ही जैसे ‘एड’ नहीं आए हैं, सोचिए क्यूँ ??

क्यूंकी आपकी ईमेल आईडी उनके पास पहुँच गयी है अब किस तरह से पहुंची ये आप ही जानेंगे, की आपने कहाँ – कहाँ  अपनी ईमेल आईडी को लॉग इन किया है । और आपकी जो आईडी उनके पास पहुँच गयी है उसी पर वो ‘एड’ वाले मैसेज आते हैं ।

तो आपके ईमेल आईडी जैसे उनके पास पहुँच गयी है ठीक उसी तरह से बहुत से लोगो का उनके पास होता है सायद लाखों मे होता है ।

तो अब उन्हे अपने कंपनी या कोई समान जो भी हो उसकी वो मार्केटिंग करना चाहते हैं तो वो ईमेल मार्केटिंग करते हैं जिसमे वो अपने प्रॉडक्ट के बारे मे एक आर्ट बनाते हैं जिसको आप पढ़ के आसानी से समझ जाएँ ।

अब वो उन्हे सबके पास एक साथ ही भेजते हैं मतलब की जितना भी ईमेल आईडी उनके पास है उन सब पर वो एक साथ ही अपने ‘एड’ भेजते हैं  जिसके लिए वो “मेल चिम्प” का इस्तेमाल करते हैं, जिससे की पूरे बल्क मे मैसेज जाता है।

मेल चिम्प एक वैबसाइट है और इसे लोग सही इसलिए नहीं कहते हैं, क्यूंकी ये फ्री है और जो फ्री होता है उसके द्वारा भेजा गया मैसेज हमारे ईमेल के प्राइमरी मे नहीं बल्कि प्रमोशन मे जाता है, जिसे लोग ज्यादा देखते नहीं हैं । और अगर ‘पेड’ वाले से हम मैसेज भेजते हैं तो वो सीधा हमारे प्राइमरी मे जाता है, तो बस यही एक कारण है मेल चिम्प को गलत कहने का ॥

और आपको बता दूँ की मेल चिम्प जैसे ही और भी वैबसाइट हैं जिसमे कुछ फ्री और कुछ पेड है ।

तो अब आपके ऊपर निर्भर करता है की आप कौन सा इस्तेमाल करना चाहते हैं पेड वाला या फ्री वाला ।।

तो उम्मीद है की आपको हमारी जानकारी अच्छे से समझ मे आई होगी और अगर नहीं आई तो आप कमेंट बॉक्स मे पूछ सकते हैं उस टॉपिक को जो ना समझ मे आया हो , और अगर आपको ये जानकरी पसंद आई हो तो कृपया इसे शेयर जरूर कर दें उसके पास जिसको इसकी जरूरत हो ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *