गुवाहाटी के कुछ प्रमुख पर्यटक स्थल – Some of the Major Tourist Places of Guwahati ?

Tour and Travels

गुवाहाटी एक विशाल नगर है जोकि ब्रह्मापुत्र नदी के किनारे पर बसा हुआ है। यह असम राज्य का सबसे बड़ा नगर है, पहले के समय में गुवाहाटी को प्रयागज्योतिश्वर के नाम से भी जाना जाता था गुवाहाटी में प्राचीन मंदिर पूरे भारत की अपेक्षा बहुत ज्यादा है, और यहां का हर एक प्राचीन मंदिर कोई ना कोई इतिहास को अपने भीतर छुपाए हुआ है और जब आप यहां के मंदिरों को देखते हैं, तो आप खुद ही इतिहास के बारे में जानने के इच्छुक हो जाते हैं। आज हम इस पोस्ट के माध्यम से आपको गुवाहाटी शहर के बारे में भी विस्तार से बताएंगे कि Visiting Places in Guwahati तथा Tourist Places in Guwahati और इसी के साथ साथ जो लोग यहां पर अपने परिवार के साथ आना चाहते हैं, उनके लिए हम कुछ Picnic Spot Near Guwahati भी बताएंगे, जहां पर अपने परिवार के साथ आकर काफी आनंद भी उठाया जा सकता है।

Tourist Places in Guwahati – गुवाहाटी शहर के पर्यटक स्थल ?

1. उमानंद मंदिर ( Umananda Temple )

Tourist Places in Guwahati में उमानंद मंदिर विल काफी प्रमुख स्थान रखता है, उमानंद मंदिर गुवाहाटी शहर से कुछ ही दूरी पर स्थित है, जो कि ब्रह्मपुत्र नदी पर स्थित एक पहाड़ी पर है, और इस मंदिर को भस्म कला तथा भस्म कोटा भी कहा जाता है यह मंदिर पूरी तरह भगवान शंकर को समर्पित है तथा इस मंदिर को उमानंद मंदिर इसलिए कहा जाता है क्योंकि उमा शब्द शिव जी की पत्नी के लिए इस्तेमाल किया जाता है

इस मंदिर को लेकर भी लोगों के मन में अलग-अलग तरह की मान्यताएं हैं तथा यह भी मंदिर काफी प्राचीन है और इस मंदिर को देखने के लिए भी लोग काफी दूर-दूर से आते हैं, और खासतौर पर शिव के भक्त तो यहां पर रोजाना ही देखने को मिलते हैं। इसी के साथ-साथ यह  मंदिर देखने में भी काफी आकर्षक है और पहाड़ी पर होने के कारण इस मंदिर के पास काफी अच्छा प्राकृतिक दृश्य भी देखने को मिलता है, जो कि पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है।

2. कामाख्या देवी मंदिर ( Kamakhya Devi Temple )

आप सभी ने कामाख्या देवी मंदिर के बारे में कभी ना कभी जरूर सुना होगा। Visiting Places in Guwahati में यह स्थान भी काफी प्रसिद्ध है यह स्थान पूरे भारतवर्ष में प्रसिद्ध है, और भारत के कोने कोने में से लोग यहां पर कामाख्या देवी के दर्शन करने के लिए आते हैं यह स्थान गुवाहाटी के पश्चिमी भाग में नीलांचल पहाड़ी पर स्थित है। नीलांचल पहाड़ी पर स्थित होने के कारण इस मंदिर की प्राकृतिक सुंदरता भी बहुत ज्यादा बढ़ जाती है। और यहां पर रोजाना दो हजार से ज्यादा श्रद्धालु कामाख्या देवी के दर्शन करने के लिए आते हैं।

खास तौर पर आसाम में आने वाले हर एक पर्यटक कामाख्या देवी के दर्शन करें बिना घर वापस नहीं लौटते क्योंकि ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति कामाख्या देवी के दर्शन कर लेता है। उसके जीवन के सभी पाप धुल जाते हैं और इसी के साथ-साथ उसे माता के चरणों में भी स्थान मिलता है, इस मंदिर को लेकर भी सभी लोगों के मन में अलग-अलग तरह की मान्यताएं हैं यदि आप भी गुवाहाटी शहर में आते हैं, तो आपको कामाख्या देवी के दर्शन करने के लिए जरूर आना चाहिए।

3. चिड़ियाघर ( Zoo )

गुवाहाटी में चिड़ियाघर भी स्थित है और यहां पर आने वाले सभी लोग इस चिड़ियाघर में जरूर जाते हैं। यह चिड़ियाघर असम राज्य का सबसे बड़ा चिड़ियाघर है और यहां पर आपको काफी अलग-अलग तरह के जीव जंतु देखने को मिलते हैं जिनमें खासतौर पर आपको यहां पर बैठने वाला हिरन भी देखने को मिलता है। और यह चिड़ियाघर 430 एकड़ की जमीन पर फैला हुआ है जो कि वनस्पति से भरा हुआ है, और इस स्थान को सिंगारी वन क्षेत्र के नाम से भी जाना जाता है, जो व्यक्ति भी अपने परिवार के साथ Picnic Spot Near Guwahati पर घूमने के लिए आता है वह स्थान पर एक बार जरूर आता है।

4. असम स्टेट म्यूजियम ( Assam State Museum )

गुवाहाटी शहर में असम स्टेट म्यूजियम भी स्थित है, जोकि पूरे असम शहर में काफी प्रसिद्ध है और यहां पर आने वाले पर्यटक स्थान पर भी जरूर आते हैं। इस संग्रहालय में आकर पर्यटकों को यहां के प्राचीन इतिहास से जुड़ी काफी कुछ बातें जाने को मिलती हैं। इसी के साथ-साथ यहां की संस्कृति का भी पता लगता है, और इसी के साथ-साथ इस संग्रहालय में आपको वह सब कुछ भी देखने को मिलता है जो कि असम राज्य में खुदाई के दौरान बरामद किया गया है। इसीलिए यदि आप भी Tourist Places in Guwahati में घूमने की योजना बना रहे हैं तो इस स्थान पर जरूर जाएं।

5. इस्कॉन मंदिर ( ISKCON Temple )

यहां पर इस्कॉन मंदिर भी स्थित है, जोकि यहां पर आने वाले पर्यटकों के आकर्षक का कारण भी है। इस्कॉन मंदिर के बारे में तो आपने सुना ही होगा यह श्री कृष्ण जी का मंदिर है, परंतु इस्कॉन मंदिर पूरे विश्व में प्रसिद्ध है क्योंकि भारत के अलावा भी बहुत से देश ऐसे हैं जो इस मंदिर के प्रति काफी श्रद्धा भाव रखते हैं, और इसीलिए यहां पर घूमने के लिए भारत के अन्य देशों में से भी पर्यटक आते रहते हैं।

इसकी स्थापना सन 1966 में की गई थी वैसे तो इस्कॉन सोसाइटी की स्थापना न्यूयॉर्क में की गई थी, इसीलिए यहां पर जब आप घूमने के लिए आते हैं तो आपको काफी ज्यादा मात्रा में दूसरे देश के लोग भी यहां पर मिलते हैं, खास तौर प1र अमेरिका के बहुत से लोग ऐसे हैं जो भगवान कृष्ण में रुचि रखते हैं और इसीलिए वह हमेशा ही इस मंदिर में देखने को मिलते हैं, और इसीलिए यह स्थान Visiting Places in Guwahati का लोकप्रिय स्थान है।

6. गुवाहाटी वन्यजीव अभयारण्य ( Guwahati Wildlife Sanctuary )

गुवाहाटी शहर में वन्य जीव अभ्यारण्य भी स्थित है, और यहां पर आपको गेंदों की संख्या बहुत ज्यादा देखने को मिलती है। यह स्थान लगभग गुवाहाटी से 30 किलोमीटर की दूरी पर मोबीगांव जिले स्थित है। इस अभयारण्य में आपको गेंदों के साथ-साथ वन्य जीवों की बहुत सी प्रजातियां देखने को मिल जाती हैं, और इसी के साथ-साथ आपको यहां पर बहुत से अलग-अलग पक्षी भी देखने को मिलते हैं।

इसीलिए यहां पर भी लोग काफी ज्यादा आना पसंद करते हैं, और इसी के साथ-साथ लोग यहां पर अपने परिवार वालों के साथ आकर पिकनिक भी मनाते हैं। यदि आप भी अपने परिवार वालों के साथ  असम राज्य में घूमने आए हैं और आप Picnic Spot Near Guwahati ढूंढ रहे हैं, तो इसी स्थान पर आप आसानी से आकर पिकनिक मना सकते हैं।

7. उमानंद द्वीप ( Umananda Island )

गुवाहाटी शहर में उमानंद द्वीप भी स्थित है जो कि बेहद ही खूबसूरत है। आपको जानकर हैरानी होगी कि गुवाहाटी शहर के बीचो बीच से होकर ब्रह्मपुत्र नदी गुजर रही है, और इस ब्रह्मपुत्र नदी पर उमानंद द्वीप स्थित है जो कि दुनिया के सबसे छोटे द्वीपों में भी गिना जाता है। यह द्वीप ब्रिटिश उपनिवेश वादियों के बीच में मयूर द्वीप के नाम से भी काफी प्रसिद्ध था।

ब्रिटिश सरकार के लोगों ने इस द्वीप का आकार देखकर उसी के अनुसार इस द्वीप का नाम भी रखा था और इस स्थान पर लोगों के आने के पीछे का एक महत्व और भी है। और वह है कि इसी स्थान पर कामदेव के द्वारा भगवान शंकर की तपस्या भंग कर दी गई थी, जिसके कारण भगवान शंकर ने क्रोधित होकर कामदेव को भस्म कर दिया था इसीलिए इस स्थान पर पर्यटक काफी दूर-दूर से घूमने के लिए आते हैं, और उस स्थान को देखना जरूर चाहते हैं जिस स्थान पर भगवान शिव तपस्या कर रहे थे।

Best Time To Visit In Guwahati – गुवाहाटी घूमने के लिए कौन सा समय बेहतर है ?

हमने Picnic Spot Near Guwahati तथा Tourist Places in Guwahati के बारे में तो अच्छे से जान ही लिया अब हम आपको यह बता देते हैं, कि किस मौसम में आप अपने दोस्तों तथा परिवार वालों के साथ Visiting Places in Guwahati पर घूमने के लिए आ सकते हैं तो दोस्तों वैसे तो आप यहां पर किसी भी मौसम में घूमने के लिए आ सकते हैं। क्योंकि जैसे कि हमने आपको बताया कि गुवाहाटी शहर के बीचो-बीच से ब्रह्मपुत्र नदी गुजरती है, जोकि इस शहर को ज्यादा गर्म नहीं होने देती और यहां पर ठंडी हवाएं चलती रहती है, इसलिए आप किसी भी मौसम में यहां पर आकर आनंद ले सकते हैं।

How To Reach Guwahati In Hindi – गुवाहाटी कैसे पहुंचे?

अगर आपने अपने परिवार वालों के साथ या फिर दोस्तों के साथ Tourist Places in Guwahati पर घूमने की योजना बना ही ली है तो हम आपको बता दें, कि आप यहां पर 3 तरीकों से पूछ सकते हैं। यदि आप अपना ज्यादा समय बर्बाद नहीं करना चाहते तो आप यहां पर By Air भी आ सकते हैं मतलब की हवाई जहाज में बैठ कर भी आप यहां पर आ सकते हैं। गुवाहाटी शहर से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर गोपीनाथ बोर्दोलोई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा ( Gopinath Bordoloi International Airport )  ठीक है, और आप दुनिया के किसी भी कोने में से यहां पर जहाज में बैठ कर आ सकते हैं।

यदि आप गुवाहाटी शहर में घूमने के लिए By Train मतलब की रेलगाड़ी के माध्यम से आना चाहते हैं, तो आप यहां पर रेलगाड़ी के द्वारा भी पहुंच सकते हैं गुवाहाटी शहर का अपना खुद का रेलवे स्टेशन है, और भारत के किसी भी कोने में से गुवाहाटी आने वाली ट्रेन में बैठकर कर आप यहां पर आ सकते हैं।

यदि आप अपनी खुद की गाड़ी से यहां पर आना चाहते हैं, तो आप By Road भी यहां पर पहुंच सकते हैं इसके अतिरिक्त यदि आप बस में आना चाहते हैं, तो आप बस में भी यहां पर आसानी से आ सकते हैं, यहां की सड़कें भारत के सभी शहरों के साथ जुड़ी हुई हैं, और असम के किसी भी राज्य से बस में बैठकर यहां पर पहुंच सकते हैं फिर यदि आप दिल्ली जाना चाहते हैं तो दिल्ली से भी असम आने की बस आपको सारी से मिल जाती है। परंतु दिल्ली से आसाम आने की बस सिर्फ हफ्ते में एक या दो बार ही चलती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *