बिहार राज्य में बसे मुंगेर कें कुछ ऐसे खास पर्यटक स्थल जो रखते हैं काफी ऐतिहासिक महत्व?

Tour and Travels

यदि आप बिहार राज्य में घूमने की योजना बना रहे हैं तो आप बिहार राज्य हैं मैं बसे मुंगेर में भी यात्रा की योजना बना सकते हैं। क्योंकि भारत देश में मुंगेर काफी ज्यादा प्रसिद्ध है। इसीलिए इस शहर में घूमने के लिए भारत के कोने कोने में से लोग आते हैं हम आपको बता दें कि वह नदी भी मुंगेर में ही स्थित है। जिसका उल्लेख वाल्मीकि जी के द्वारा रामायण में मिलता है इसीलिए इस स्थान पर पर्यटकों का आना जाना लगा रहता है। इसी स्थान पर सीता कुंड भी स्थित है इसके अतिरिक्त भी बहुत से पर्यटक स्थल यहां पर ऐसे हैं। जिनके बारे में जान लेने के पश्चात आप यहां पर भ्रमण करने की योजना जरूर बनाएंगे। आज हम आपको Munger Tourist Place तथा Tourist Places In Munger और  Visiting Places In Munger के बारे में विस्तार से बताएंगे।

Tourist Places In Munger

1. कष्टहरणी घाट

  • Munger Tourist Place पर आने वाले पर्यटक कष्टहरणी  घाट पर घूमने के लिए जरूर जाते हैं यह वही स्थान है जिसका उल्लेख वाल्मीकि के द्वारा रामायण में भी किया गया है। रामायण के अनुसार राक्षसी ताड़का का वध करने के पश्चात भगवान राम अपने भाई लक्ष्मण के साथ कुछ समय के लिए इस स्थान पर रुके थे। ऐसा भी कहा जाता है कि जब भगवान राम का सीता माता के साथ विवाह हुआ था और जब वह मिथिला से अयोध्या वापस लौट रहे थे तो तब भगवान राम के बहुत से साथी इस कष्ट हरणी घाट पर स्नान करने के लिए भी रुके थे। प्राचीन मान्यताओं के अनुसार इस घाट पर जो कोई व्यक्ति भी स्नान करता है उसके सारे दुख दर्द दूर हो जाते हैं। तथा उस व्यक्ति के मस्तिष्क और आत्मा को भी शांति मिलती है।
  • इसके साथ-साथ यह स्थान शाम बिताने के लिए भी बहुत ही अच्छा है। यह स्थान प्राकृतिक सुंदरता से चारों तरफ से घिरा हुआ है इसीलिए लोग अक्सर इस स्थान पर शाम बिताने के लिए रुक जाते हैं। ताकि वह यहां की प्राकृतिक सुंदरता का लुफ्त उठा सकें इस घाट का पानी उत्तर दिशा की ओर बहता है। इसीलिए इसे उत्तर वाहिनी गंगा भी कहा जाता है। इस स्थान पर आकर लोग काफी फोटो भी खिंचवाते हैं क्योंकि इस स्थान पर काफी अच्छे तथा आकर्षक दृश्य दिखाई देते हैं। जिसको लोग हमेशा के लिए कैमरे में कैद करके अपने साथ ले जाना चाहते हैं। अगर आप भी अपने परिवार के साथ किसी पर्यटक स्थल पर जाना चाहते हैं तो यह स्थान आपके लिए बहुत ही बेहतर रहेगा क्योंकि यह स्थान ऐतिहासिक महत्व भी रखता है।

2. साफिबाद मिर्जा ( Safibad Mirza )

सैफ खान को पहले मिर्जाचौकी के नाम से भी जाना जाता था सैफ खान मुमताज की बहन मल्लिका बानो के पति थे। मुमताज वही है जिनकी याद में ताजमहल को बनवाया गया था। हम आपको बता दें कि सैफ खान ने लोक सुविधाओं के निर्माण के लिए भी बीड़ा उठाया था। जमालपुर तथा साफीआसरा शहरों का निर्माण भी इन्होंने ही करवाया था। सैफ खान ने इस स्थान पर एक बड़ा कुआं भी बनवाया था। इसके अतिरिक्त इस स्थान पर बहुत सी ऐसी प्राचीन चीजें देखने को मिलती है जो कि आज से 400 से 600 साल पुराने समय को बयां करती है। यह स्थान भारत के सबसे प्राचीन स्थानों में से एक है इसीलिए स्थान पर अक्सर पर्यटक स्थल आते जाते रहते हैं। खासतौर पर इतिहास प्रेमी तो इस स्थान पर रोजाना ही देखे जा सकते है अगर आप भी इतिहास से प्रेम करते हैं और इतिहास से जुड़ी चीजें देखना चाहते हैं तो आप Visiting Places In Munger पर घूमने के लिए अवश्य आएं।

3. मुल्ला मोहम्मद सैयद की कब्र

यदि आपको इतिहास के बारे में थोड़ा भी पता है तो आपने मुल्ला मोहम्मद सैयद के बारे में तो जरूर सुना ही होगा। यह औरंगजेब के दरबार के प्रसिद्ध कवि थे और इन पर महान लोगों की कृपा दृष्टि भी थी। वह अशरफ के नाम से भी लिखते थे इस कवि की मृत्यु 1672 ईस्वी में हुई थी ऐसा कहा जाता है कि जब इस कवि की मृत्यु होने वाली थी तो उससे पहले यह मक्का जा रहे थे। परंतु यह मक्का नहीं पहुंच पाए और रास्ते में ही उनकी मृत्यु हो गई यह स्थान मुंगेर शहर में काफी प्रसिद्ध है। मुंगेर शहर तो क्या यह स्थान दूसरे राज्यों में भी काफी ज्यादा प्रसिद्ध है। इसीलिए यहां पर काफी दूर-दूर से लोग इस कब्र को देखने के लिए आते हैं। यह स्थान प्राचीन स्थानों में से एक है इसीलिए यहां पर काफी प्राचीन चीजें भी देखने को मिलती हैं। अगर आप इतिहास प्रेमी है और इतिहास से जुड़े स्थानों पर घूमना चाहते हैं तो आप Tourist Places In Munger के इस स्थान पर घूमने के लिए जरूर जाए।

4. सीता कुंड ( Sita kund )

  • मुंगेर घूमने वाले पर्यटकों के लिए सीताकुंड भी बहुत खास महत्व रखता है यह सीताकुंड मुंगेर शहर के बीचोंबीच स्थित हैं। यह सीताकुंड गर्म पानी का झरना है इस स्थान पर हर समय पर्यटक देखने को मिलते हैं। परंतु माघ महीने की पूर्णिमा को इस कुंड का अलग ही महत्व होता है लोक कथाओं के अनुसार सीता माता लपटों में से प्रकट हुई थी। तो तब उन्होंने अपने शरीर की आग को बुझाने के लिए इस कुंड में स्नान किया था और उसी के पश्चात यह गर्म पानी का पूर्ण बन गया। इसीलिए यह स्थान पूरे के पूरे भारत में प्रसिद्ध है और भारत के कोने कोने में से लोग इस सीताकुंड को देखने के लिए आते हैं।
  • इस कुंड के बिल्कुल पास में रामकुंड भी स्थित है। जो कि ठंडे पानी का एक झरना है और यह राम कुंड सीता कुंड के बिल्कुल सामने स्थित है इसके साथ साथ इस स्थान पर 3 कुंड और भी स्थित है। जो कि लक्ष्मण भरत और शत्रुघ्न के नाम से प्रसिद्ध है हम आपको साधारण भाषा में कहें। तो सीता कुंड वह कुंड है जहां पर सीता माता ने अग्नि परीक्षा देने के पश्चात स्नान किया था इसीलिए यह कुंड आज भी गर्म पानी का कुंड हैं। यदि आप अपने परिवार वालों के साथ कहीं पर घूमने की योजना बना रहे हैं तो आप Munger Tourist Place पर घूमने की योजना बना सकते हैं। परिवार के साथ घूमने के लिए तो यह स्थान काफी अच्छा है।

5. उचेश्वरनाथ ( Ucheshwarnath )

मुंगेर शहर के खड़कपुर क्षेत्र में उचेश्वरनाथ मंदिर स्थित है यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। भगवान शिव के सबसे प्राचीन मंदिरों में से यह एक है। इस स्थान पर भगवान शिव की एक मूर्ति भी स्थित है जो कि लगभग 500 से 600 साल पुरानी है। हम आपको बता दें कि इस मंदिर को लेकर यहां के स्थानीय लोगों में भी अलग-अलग मान्यताएं प्रसिद्ध है और यहां पर रहने वाली जनजाति के लिए भी यह काफी विशेष महत्व रखता है क्योंकि हर साल यहां पर एक लोग मेले का आयोजन भी किया जाता है। जिसमें आदिवासी परंपराओं के अनुसार संथाल लड़के तथा लड़कियों की शादी की जाती है। इस स्थान पर प्रतिदिन अलग-अलग राज्यों से पर्यटक घूमने के लिए आते हैं तथा शिवरात्रि के अवसर पर तो इस स्थान पर दूर-दराज से श्रद्धालु आते हैं और यहां पर आयोजित हुए कार्यक्रमों में हिस्सा लेते हैं। इसलिए अगर आप भी अपने परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थान पर जाना चाहते हैं तो आप Tourist Places In Munger के इस स्थान पर भी अपने परिवार के साथ आ सकते हैं।

Best Time To Visit In Munger – मुंगेर घूमने के लिए कौन सा मौसम सही रहता है?

इस पोस्ट के माध्यम से हमने Tourist Places In Munger तथा Munger Tourist Place के बारे में बताया है। अब हम आपको यह बता देते हैं कि किस मौसम में आप Visiting Places In Munger में घूमने के लिए आ सकते हैं तो दोस्तों वैसे तो जब आपको समय मिले आप कुछ समय के अनुसार किसी भी मौसम में यहां पर आ सकते हैं। परंतु अगर आप इन पर्यटक स्थलों पर थोड़ा ठंडे समय में घूमने के लिए जाते हैं तो उस समय आप यहां पर बेहतर लोग तो उठा पाएंगे। इसलिए आप अक्टूबर से लेकर मार्च तक के महीने में आप घूमने जाएं।

How To Visit In Munger In Hindi – मुंगेर कैसे पहुंचे?

आप मुंगेर पर्यटक स्थल पर यदि घूमने के लिए जा रहे हैं। तो आप 3 तरीकों से मुंगेर पहुंच सकते हैं जैसे कि :-

By Air –

यदि आप सफर के दौरान अपना ज्यादा समय व्यर्थ नहीं करना चाहते तो आप हवाई मार्ग से भी मुंगेर शहर में घूमने के लिए आ सकते हैं। इसके लिए आपको पटना एयरपोर्ट ( Patna Airport ) पर आना होगा। पटना एयरपोर्ट पर आने के लिए आप भारत के किसी भी राज्य से हवाई जहाज में बैठकर पटना पहुंच सकते हैं। पटना से मुंगेर तक की दूरी कुल 175 किलोमीटर है। पटना से मुंगेर आने के लिए आप प्राइवेट टैक्सी में भी आ सकते हैं और उसके माथे पर पहुंच सकते हैं।

By Road –

आप सड़क मार्ग द्वारा भी मुंगेर में आसानी से पहुंच सकते हैं। यदि आप अपनी खुद की गाड़ी से आना चाहते हैं तो आप अपनी खुद की गाड़ी से भी आ सकते हैं। यदि आप बस में आना चाहते हैं तो भी आप भारत के किसी भी बड़े राज्य से बस के माध्यम से यहां पर पहुंच सकते हैं। मुंगेर की सभी सड़कें भारत के अन्य राज्य तथा बिहार के दूसरे शहरों के साथ जुड़ी हुई हैं जिसके माध्यम से आप यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं।

By Train –

 यदि आप रेलगाड़ी के माध्यम से यहां पर आना चाहते हैं। तो रेलगाड़ी के माध्यम से भी मुंगेर में घूमने के लिए आ सकते हैं। परंतु यदि आप रेलगाड़ी के माध्यम से मुंगेर आना चाहते हैं तो आपको Jamalpur Junction पर पहुंचना होगा और जमालपुर जंक्शन Patna Junction से कुल 3 घंटे का रास्ता है। इसलिए पहले आपको पटना पहुंचना होगा फिर पटना से आप जमालपुर जंक्शन पर आ सकते हैं। जमालपुर से आप प्राइवेट टैक्सी के माध्यम से मुंगेर पहुंच सकते हैं जमालपुर से मुंगेर का सफर कुल 7 किलोमीटर का है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *