बिहारशरीफ के कुछ खास पर्यटक स्थल – Some important tourist places of Bihar Sharif?

Tour and Travels
  • बिहारशरीफ बिहार राज्य में स्थित एक बहुत ही प्राचीन शहर है, जो कि वर्तमान समय में नालंदा जिले का मुख्यालय भी है। आपको जानकर हैरानी होगी  कि यह शहर मस्जिद तथा कपड़ों के रूप में गुप्त काल के दौरान की इस्लामी वास्तुकला को चित्रित करता है। यह शहर प्राचीन समय में एक समृद्ध और सक्रिय शहर होता था और इसके तृतीय है, शहर प्राचीन स्थल गौतम बुध के जीवन से भी गहराइयों के साथ जुड़ा हुआ है इसीलिए गौतम बुध को मानने वाले लोग यहां पर अक्सर आते जाते रहते हैं।
  • यदि हम इतिहास की गहराइयों पर और भी नजर डाले हैं तो इससे यह भी पता चलता है कि बिहार शरीफ कभी पाल शासकों की राजधानी भी हुआ करता था। इसी के कारण इस शहर में 5 वी शताब्दी के कुछ गुप्त स्तंभ वी देखने को मिलते हैं, यहां पर बाबा मणिराम जी का अखाड़ा भी स्थित है इसके अतिरिक्त भी जहां पर बहुत से ऐसे पर्यटक स्थल है। जिनके बारे में जानने के पश्चात आप यहां पर घूमना जरूर चाहेंगे यदि प्राचीन शहरों की दृष्टि से देखा जाए तो यह शहर प्राचीन शहरों में अपना मुख्य स्थान रखता है, और इसी के कारण यहां पर रोजाना पर्यटकों की भारी भीड़ भी देखी जाती है आज हम इसी शहर के बारे में विस्तार से जानेंगे, कि Tourist Places In Bihar sharif तथा Visiting Places In Bihar sharif और इसके साथ साथ सभी Bihar Sharif Tourist Place के बारे में भी जानेंगे।

Tourist Places In Bihar Sharif – बिहार शरीफ के पर्यटक स्थल?

1. शरीफ-उद-दीन का मकबरा ( Sharif-ud-din’s Tomb )

  • बिहार राज्य के इस शहर में शरीफ-उद-दीन का मकबरा भी स्थित है, जिसे देखने के लिए भारत के अलावा भी अन्य देशों से लोग आते रहते हैं। यह मकबरा बिहार शरीफ में सबसे अधिक देखे जाने वाले स्थानों में से एक है, जो कि यहां की स्थानीय नदी के दक्षिण तट पर स्थित है, और आपको जानकर हैरानी होगी कि इस मकबरे का निर्माण लगभग 1570 ईसवी में करवाया गया था जिसको लगभग आज के समय में 500 साल के आसपास हो चुके हैं।
  • यहां के स्थानीय मुस्लिम समुदाय के सभी लोग सावन के महीने के पांचवे दिन यहां पर संत मखदूम की मृत्यु की सालगिरह की मनाते हैं, और इकट्ठे होकर उनकी शिक्षाओं का प्रचार भी करते हैं इसके अतिरिक्त यह मकबरा धर्मनिरपेक्षता और एकता को भी प्रदर्शित करता है। इसीलिए यहां पर मुस्लिम लोगों के अतिरिक्त अन्य सभी धर्मों के लोग इस मकबरे को देखने के लिए दूर-दूर से आते हैं। अगर आप भी अपने परिवार या दोस्तों के साथ Bihar Sharif Tourist Place की सैर करना चाहते हैं तो इस स्थान पर घूमने के लिए अवश्य आएं।

2. मलिक इब्राहिम वाया का मकबरा ( Tomb of Malik Ibrahim Via )

  • मखदूम शाह जी के मकबरे को देखने के पश्चात पर्यटक इस स्थान पर भी काफी अधिक आते हैं, क्योंकि यह स्थान भी काफी आकर्षक है और आकर्षक होने के साथ-साथ यह भी लगभग 500 साल पुराना मकबरा है, और इस प्राचीन स्थल को देखने के लिए भी लोग काफी दूर-दूर से आते हैं जब आप इस स्थान पर घूमने के लिए आते हैं, तो आपको बिहार शरीफ के अतीत के बारे में भी बहुत कुछ जानने को मिलता है, और इसके साथ-साथ आपको बिहार शरीफ शहर की वास्तविक जड़ों के बारे में भी पता चलता है यह मकबरा एक बड़ी पहाड़ी पर स्थित है, और इसी के साथ-साथ इस मकबरे के चारों ओर हरियाली होने के कारण यहां पर काफी अच्छे प्राकृतिक दृश्य भी देखने को मिलते हैं और जब यहां पर पर्यटक आते हैं तो वह आदमी तथा मानसिक शांति का भी अनुभव करते हैं।
  • अगर इतिहास की गहराइयों पर नजर डाली जाए तो यह पता चलता है कि मलिक इब्राहिम वाया अपनी प्रशासनिक उपलब्धियों के कारण सभी मुस्लिम शासकों में काफी लोकप्रिय थे, और बिहारशरीफ पर शासन करने वाले राजाओं में भी शामिल थे। इस मकबरे का निर्माण भी लगभग 1596 इसी में इस महान राजा को श्रद्धांजलि देने के लिए कराया गया था, और उसके बाद यह एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल के रूप में जाना जाता है। Tourist Places In Bihar Sharif पर घूमने आने वाले सभी पर्यटकों के आकर्षण का भी यह मुख्य कारण है।

3. ओदंतपुरी ( Odantpuri )

  • यदि आप इतिहास से बहुत प्रेम करते हैं तो बिहार शरीफ शहर के उदंतपुरी में भी घूमने के लिए आ सकते हैं। इस स्थान का निर्माण लगभग 8 शताब्दी के दौरान कराया गया था इस स्थान का निर्माण ईसा पूर्व में एक प्रसिद्ध और बौद्ध धर्म तथा बौद्ध संस्कृति को सीखने का केंद्र बनाया गया था यह भी माना जाता है कि इस स्थान की खोज भी पाल राजवंश के गोपाल नाम के शासक ने की थी, और नालंदा विश्वविद्यालय के साथ-साथ ओदंतपुरी को भी बहुत ही महान शिक्षण केंद्रों में गिना जाता है।
  • वैसे तो अब यह स्थल सिर्फ खंडहर के रूप में ही मौजूद है। लेकिन 13 वी शताब्दी के दौरान यह स्थान काफी प्रचलित था और फिर उसके पश्चात मुगल सम्राट के बख्तियार खिलजी ने इसे जलवा दिया था। परंतु आज भी इस स्थान पर बहुत सी ऐसी चीजें देखने को मिलती है, जो कि यह बयां करती है कि यह अपने आप में ही किसी अजूबे से कम नहीं था आज भी इस स्थान के बहुत से अवशेष यहां पर देखे जा सकते हैं। जिन्हें देखकर उस समय का थोड़ा बहुत अंदाजा लगाया जा सकता है, इसीलिए Tourist Places In Bihar Sharif पर आने वाले पर्यटक इस स्थान पर भी जरूर घूमने जाते हैं।

4. जरासंध का अखाड़ा ( Jarasandha Arena )

  • Bihar Sharif Tourist Place पर आने वाले लोग जरासंध के अखाड़े को देखने के लिए भी जरूर जाते हैं, यह स्थान रणभाभी के नाम से भी काफी प्रसिद्ध है यह अखाड़ा नालंदा जिले के राजगीर में स्थित है और इस स्थान का नाम मतदान सम्राट जरासंध के नाम के ऊपर रखा गया है। पौराणिक कथाओं के अनुसार इस स्थान पर भीम तथा जरासंध के बीच में महाभारत के युद्ध में काफी रोमांचक लड़ाई हुई थी यह भी माना जाता है कि यह लड़ाई लगभग 27 दिनों तक लगातार चली थी इसके अतिरिक्त पुरातात्विक अन्वेषण में यहां पर सोनभद्र गुफाओं का भी पता चला है।
  • आपने यदि महाभारत देखी है तो उसमें जरासंध का नाम तो आपने सुना ही होगा, तो अब आप अच्छे से समझ गए होंगे की बिहारशरीफ शहर में आने वाले पर्यटक इस स्थान पर इतना ज्यादा आकर्षित क्यों होते हैं, खास तौर पर हिंदू धर्म के लोग तो इस स्थान को देखने के लिए भारत के कोने कोने में से आते हैं, क्योंकि हिंदू धर्म में महाभारत की लड़ाई एक बहुत ही अहम युद्ध माना जाता है।

5. नालंदा विश्वविद्यालय ( Nalanda University )

  • Tourist Places In Bihar Sharif के सभी पर्यटक स्थलों में यह स्थान भी सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है, क्योंकि नालंदा विश्वविद्यालय एक ऐसा विश्वविद्यालय है जिसके बारे में भारत में बच्चों से लेकर बड़ों तक हर कोई जानता है। अक्सर हमें बचपन में भी किताबों में इसके बारे में पढ़ाया जाता है अगर आप यहां पर घूमने के लिए आ रहे हैं, तो नालंदा विश्वविद्यालय की भी आप शेयर कर सकते हैं नालंदा विश्वविद्यालय भारत के सबसे प्राचीन शिक्षण केंद्रों में से एक है, और यहां पर सिर्फ भारतीय ही नहीं अपितु भारत के अतिरिक्त भी दूसरे देशों से बच्चे पढ़ने के लिए आया करते थें।
  • यह प्राचीन काल में सबसे विकसित तथा आधुनिक विश्वविद्यालय था। और इसी के साथ साथ हम आपको बता दें, कि नालंदा विश्वविद्यालय में हिंदू धर्म शास्त्रों के साथ बौद्ध धर्म की भी शिक्षाएं दी जाती थी,। और प्राचीन काल में भी नालंदा विश्वविद्यालय में छात्रों को पढ़ने रहने तथा खाने की सुविधाएं उपलब्ध कराई जाती थी, और इसी के साथ साथ यहां पर प्राचीन समय का सबसे बड़ा विशाल पुस्तकालय भी मौजूद था। अगर आपको कभी बिहार शरीफ घूमने का मौका मिलता है तो नालंदा विश्वविद्यालय में आप जरूर जाइएगा। क्योंकि नालंदा विश्वविद्यालय से भारत का बहुत पुराना इतिहास जुड़ा हुआ है।

Best Time To Visit In Bihar Sharif – बिहारशरीफ घूमने के लिए कौन सा मौसम सही रहता है?

हमने Visiting Places In Bihar Sharif तथा Tourist Places In Bihar Sharif के बारे में तो अच्छे से जान ही लिया। अब हम आपको यह बता देते हैं कि किस मौसम में आप Bihar Sharif Tourist Place पर घूमने का आनंद ज्यादा ले सकते हैं, तो दोस्तों यदि आप बिहार राज्य के बिहारशरीफ शहर में इन सभी प्राचीन स्थलों पर घूमना चाहते हैं, तो आप यहां पर नवंबर से लेकर मार्च तक के महीने में आकर ज्यादा आनंद उठा सकते हैं। क्योंकि इस मौसम में यहां पर थोड़ी ठंड रहती है, जिसके कारण आप यहां पर आसानी से घूम सकते हैं, वैसे तो आप अपनी इच्छा के अनुसार किसी भी मौसम में बिहार शरीफ की सैर करने आ सकते हैं।

How To Reach In Bihar Sharif In Hindi – बिहारशरीफ घूमने के लिए कैसे जाएं?

अगर आप Bihar Sharif Tourist Place पर घूमना चाहते हैं, तो आप यहां पर 3 तरीकों से पहुंच सकते हैं जैसे कि :-

By Road –

अगर आप यहां पर सड़क मार्ग के माध्यम से अपनी खुद की गाड़ी में आना चाहते हैं, या फिर बस में सफर करके आना चाहते हैं तो आप यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं। क्योंकि बिहार शरीफ शहर की सड़कें बिहार के अन्य शहरों तथा दूसरे राज्यों के साथ जुड़ी हुई हैं, जिसके कारण आप बिहार शरीफ में सड़क मार्ग के द्वारा आसानी से पहुंच सकते हैं और यदि आप बस में बैठ कर आना चाहते हैं, तो भी आप आसानी से यहां पर पहुंच सकते हैं।

By Train –

बिहारशरीफ आने के लिए आप रेल मार्ग के द्वारा भी यहां पर आ सकते हैं, बिहार शरीफ का के द्वारा भी यहां पर आ सकते हैं, बिहार शरीफ का अपना खुद का रेलवे स्टेशन ( Bihar Sharif Juction ) है जो कि भारत के अन्य सभी राज्यों के साथ जुड़ा हुआ है, और आप किसी भी राज्य से यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं।

By Air –

यदि आप बिहार शरीफ हवाई जहाज के माध्यम से पहुंचना चाहते हैं तो आप यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं, बिहारशरीफ के नजदीक में Muzaffarpur Airport है जो कि बिहार शरीफ से लगभग 104 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस एयरपोर्ट पर भारत के किसी भी राज्य से आसानी से पहुंच सकते हैं, और उसके पश्चात बिहारशरीफ आने के लिए प्राइवेट टैक्सी तथा बस में आ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *